PGDCA/DCA /COMPUTER KNOWLEDGE

Unit-1

1 . Introduction to object oriented programming
2. Basic concepts of object oriented programming
3 . Benefits of oops
4. History of Java
5. Features of Java
6. Difference between Java and C & C++
7 . Java and World Wide Web (www)
8. Hardware and software requirements
9 . Structure of simple java program
10 Java tokens
11 Java statements
12 Java Virtual Machine
१३ command line arguments
१४ programming style
१५ constants
१६ variable
१७ sampling contents
१८ Type casting
19. operators
20 arithmetic expression
२१ Evaluation of expression
२२ presidence of arithmetic operators
२३ type conversions in expression
२४ operator precedence and associativity
२५ mathematical functions

1.WHAT IS JAVA PROGRAMING

Java एक General Purpose High Level Computer Programming Language और Computing Platform दोनों है। यह Application Developer को ऐसा Platform Provide करती है जिससे की एक बार Code लिखकर उसे कहीं पर भी Run करा सकते HAI जिसका मतलब है Compiled Java Code को बिना Recompile के उन सभी Platform पर Run कराया जा सकता है जो की Java Support करते है। हमने कई बार Notice किया होगा की आपके Computer पर कुछ Web Application, Program Or Software Run करते है तो Message आता है Java Not Installed. ऐसा इसलिये होता है क्योंकि बहुत सारी Applications और Websites है जो की Java से बनी हुई है जो Java को Install किए बिना नहीं चल सकती है।
JAVA KE Codes English में होते हैं ना कि Numeric Codes में लिखे गए codes को कोई भी बड़ी आसानी से समझ सकता है| इसीलिए इसे High Level Language में लिया गया है| यह Oops के Concept को follow करती है| C++ Language के Fundamental को इसमें Use किया गया है|

Full Form ऑफ़ JAVA

Java का कोई Full Form नहीं होता है, Java एक High Level Computer Programming Language है।
Java Laptops, Computer से लेकर Data-centers मे, Game Consoles से लेकर Scientific Supercomputers मे और Cell Phones से लेकर Internet तक सब जगह है।
Java Ki खोज किसने KI

JAVA INVENTOR – “JAMES GOSLING”
सन- जून 1991

June 1991 में “James Gosling” द्वारा “Oak” नाम के Project के रूप में Java की शुरुआत की थी । Java का पहला Public Implementation 1995 में Java 1.0 था।

History Of Java

जावा KI शुरुआत James Gosling ने Computer Scientist मित्रों के साथ की थी| इस Project के लिये Sun Microsystems ने C++ भाषा के साथ Operating System banane की योजना तैयार की, लेकिन
James Gosling ने यह तय किया की वह अपनी ख़ुद की एक Programming Language बनाएंगे | उसके बाद उन्होंने ओक (Oak) नामक अपनी ख़ुद की एक Programming Language बनाई, जिसका नाम उन्होंने अपने office की खिड़की से दिखने वाले पेड़ (Oak) के aadhar par रखा।
ओक (Oak) C++ भाषा के Syntax पर थी, लेकिन ओक (Oak) C++ की तुलना में सरल, अधिक Stable और बेहतर Network Supportive प्रोग्रामिंग LANGUAGE थी। फिर ओक (Oak) भाषा का नाम 1995 में बदलकर Java रख दिया था।


ये Sun Microsystem ( एक सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट कंपनी ) में work करते थे |
Sun Microsystem अपने Coustomer ke लिए software बनाया करती थी Lekin इनको एक ही सॉफ्टवेयर को अलग अलग मशीन में चलाने के लिए अलग अलग कोडिंग करना पड़ता था जिसको देखते huye इन्होने जावा लैंग्वज बनाने का सोचा | जो कि प्लेटफार्म इंडिपेंडेंट हो जिसको किसी भी प्लेटफॉर्म में आसानी से चलाया जा सकता हो | जावा लैंग्वेज को एक प्रोजेक्ट के तौर पर set-top boxes, televisions जैसे digital devices के लिए एक लैंग्वेज बनाने के लिए डेवलप्ड किया गया था | जावा आज दुनिया का सबसे पॉपुलर और काफी ज्यादा उपयोग किया जाना वाल programming language है | जावा एक पोर्टेबल, सिक्योर और robust, ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है मगर इसे हम 100% ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नहीं कह सकते, क्योंकि जावा Language int, char, float आदि को सपोर्ट करती है |
java दुनिया में सबसे व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं में से एक है| जावा एक पूर्ण विशेषताओं वाली सामान्य-उद्देश्य वाली प्रोग्रामिंग भाषा है जिसका उपयोग डेस्कटॉप कंप्यूटर, मोबाइल उपकरणों और सर्वर पर चलने वाले प्लेटफ़ॉर्म-स्वतंत्र सॉफ़्टवेयर (एप्लिकेशन) को विकसित करने के लिए किया जाता है| यह एक सरल, वस्तु-उन्मुख, वितरित, व्याख्या, सुरक्षित, मजबूत, वास्तुकला तटस्थ, पोर्टेबल, उच्च प्रदर्शन, मल्टीथ्रेडेड और गतिशील प्रोग्रामिंग भाषा है| java ने शुरू से ही प्रोग्रामर को अपनी ओर आकर्षित किया क्योंकि प्रोग्रामर जावा प्रोग्राम को वेब सर्वर से चला सकते हैं| ऐसे प्रोग्रामों को एप्लेट्स कहा जाता है. इसलिए, वेब सर्वर पर एप्लिकेशन विकसित करने के लिए जावा तकनीक अब बहुत लोकप्रिय है. ये एप्लिकेशन डेटा को संसाधित करते हैं, गणना करते हैं और गतिशील वेब पेज उत्पन्न करते हैं| बैकएंड पर java तकनीक का उपयोग करके कई व्यावसायिक वेबसाइटें विकसित की जाती हैं| एंड्रॉइड सेल फोन के लिए एप्लिकेशन जावा का उपयोग करके विकसित किए गए हैं|

5 . Features of Java

आइए जावा के कुछ Popular featurs के बारे में हम जानने का प्रयास करते हैं एक अच्छा जवा प्रोग्राम के लिए यह सभी Popular featursका पता होना अति आवश्यक है|

SIMPLE

JAVA एक बहुत ही साधारण भाषा है क्योंकि यह C और C++ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के SYNTAX और इन दोनों प्रोग्रामिंग भाषा के बहुत सारे FEATURS Inherit करता है अर्थात इन दोनों प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के Syntax और Featurs java me उपयोग होते हैं जो व्यक्ति C और C++ को थोड़ा बहुत भी जनता है वह JAVA आसानी से सीख सकता है| JAVAभाषा में अनेक ऐसे बहुत सारे फीचर्स को Remove कर दिया गया है जो कि Cऔर C++ भाषा में COMPLEX थे जिन्हें समझना थोड़ा कठिन THA वैज्ञानिक SUN के अनुसार JAVA एक सिंपल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है क्योंकि इसमें कांप्लेक्स Syntax को रिमूव कर दिया गया है
| जैसे ऑपरेटर ओवरलोडिंग फ्रेंड फंक्शन आदि और साथ ही साथ इस भाषा में हमें आने रेफरेंस ऑब्जेक्ट को रिमूव करने में की जरूरत नहीं पड़ती हैक्योंकि इस भाषा में ऑटोमेटिक गरबे के कलेक्शन उपलब्ध होता है जो कि आने रेफरेंसेड ऑब्जेक्ट्स को ऑटोमेटिक रिमूव कर देता हैयह भाषा सीखने में आसान इसलिए है क्योंकि इसका कांस्य पर सिंपल और क्लियर होता है और साथ ही साथ यह भाषा सी और सी प्लस प्लस और ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बहुत सारे फीचर्स को इंक्लूड करता है इस भाषा में कन्फ्यूजन फीचर्स को रिमूव कर दिया गया है जैसे हिडन फाइल्स वर्चुअल फंक्शन ेट्स

object oriented Programming

यह एक प्रोग्रामिंग करने का तरीका है इसमें सभी चीजें class और object की मदद से होती हैं| इसमें real word के ऑब्जेक्ट का उपयोग करके प्रोग्राम लिखा जाता है|object मतलब table,pen, computer etc होते हैं और ऑब्जेक्ट का class attributes मेथड्स होते हैं|

class , Object, Attributes and Method in oops in Hindi
class -class एक user डिफाइंड डाटा टाइप होता है जिसका उपयोग Object को banane के लिए किया जाता है|

object -ऑब्जेक्ट एक रियल वर्ल्ड का साधन होता है जैसे की pen, computer, dog, table etc आदि| ऑब्जेक्ट को क्लास की मदद से डिफाइन किया जाता है |

Attributes – yah ऑब्जेक्ट के स्टेट को दर्शाते हैं उदाहरण के लिए कार एक ऑब्जेक्ट है तो कार का वजन और कार का कलर उसके अटरीब्यूट्स होंगे

Methods -मेथड्ड्स मतलब फंक्शन होते हैं इन्हें क्लास के अंदर डिफाइन किया जाता है यह ऑब्जेक्ट के Behaviour को दर्शाते हैं| मेथड्स का उपयोग code के reuse के लिए किया जाता है|

Features of Object Oriented Program

Inheritance -यह OOPs का एक महत्वपूर्ण features है जो कि एक क्लास को दूसरी क्लास के featuresको ACCESS करने की facility provides करता है| इसमें एक क्लास का ऑब्जेक्ट अन्य क्लास की प्रॉपर्टीज को भी एक्सेस कर use कर सकता है यह resueability केfeaturesको implemenकरता है| जहां किसी क्लास के नए featuresको add करने के लिए नई क्लास बनाकर उसमें दूसरी क्लास केfeaturesको भी implement किया जाता है साथ ही नई क्लास में और codes भी जोड़ दिए जाते हैं|

Encapsulation
-Data और फंक्शन को एक साथ bind करना Encapsulation कहलाता है| यह क्लास का सबसेimportant featureहै इसमें डाटा को क्लास के बाहर क्लास के फंक्शन ही इसे ACCESS कर सकते हैं Data abstraction बिना background process की डिटेल के डाटा को इनपुट और आउटपुट करने से है| जिसमें यह function of class के द्वारा perform का होता है|

Polymorphism-यह भी oops का important concept है जो कि 1 से अधिक फॉर्म को बनाने उसे यूज करने की facility देता है यह फंक्शन और ऑपरेटर दोनों के द्वारा परफॉर्म किया जाता है| जहां function name ऑपरेटर वही रहता है पर arguments की संख्या type या operands के टाइप अलग प्रकार से use होते हैं और टेस्ट को परफॉर्म करते हैं जैसे + ऑपरेटर न्यूमेरिकल एडिशन और स्ट्रिंग्स को जोड़ने के लिए use होता है|

abstraction– straabction की प्रोसेस में एप्लीकेशन के इंटरनल डिटेल को बाहरी दुनिया से छुपाया जाता है|

straabction का उपयोग चीजों को आसान तरीके से दिखाने के लिए किया जाता है| उदाहरण- straabction का मोबाइल एक अच्छा उदाहरण है आप मोबाइल पर कुछ बटन क्लिक करके कॉल लगाते हैं और बातें करते हैं उसके लिए आपको कॉल कैसे लगा मोबाइल में कौन से componts का उपयोग हुआ है इसे janane की कोई जरूरत नहीं होती| इन्ही इंटरनल चीजों को यूजर से छुपाने की प्रक्रिया को abstraction कहते हैं |

Advantage ऑफ़ oops

1. oops के द्वारा समस्या का समाधान करना आसान है|क्योंकि यह वास्तविक दुनिया के वस्तुओं और इसके साथ हो रहे घटनाओं के करीब
है|
2 oops me object के स्टेट और बिहेवियर वास्तविक दुनिया के वस्तुओं से मेल खाता है|
3 oops बड़े प्रोग्राम को संभालने और मैनेज करने के लिए बेहतर है|
4 oops विश्वसनीयता प्रदान करती है|
5 abstraction के उपयोग से एक programmer अनावश्यक इंफॉर्मेशन को Chhupa सकता है और केवल आवश्यक इंफॉर्मेशन को
ही प्रदर्शित करा सकती है|
6 Encapsulation ऑब्जेक्ट के संरचना और व्यवहार की तरफ ध्यान केंद्रित करता है|

7 enclosers ke उपयोग से भी जानकारियां छुपाया जाता है और ऑब्जेक्ट के व्यवहार और संरचना के एक्सेस को नियंत्रित किया जाता
है|

8 oops भी किसी प्रॉब्लम को सॉल्व करने के लिए उसे ऑब्जेक्ट के समूह में bantata है|
9 इसमें प्रोग्राम मोडिफिकेशन अप ग्रेडेशन अधिक आसान है| इन्हेरिटेंस और पॉलीमोरफ़िज्म ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग को विस्तार
योग्य बनाता है|
10 यह लिखित code को पुनरयोग के लिए बढ़ावा देता है|
11 सॉफ्टवेयर के जटिलता को आसानी से मैनेज करता है|
12 ऑब्जेक्ट एक दूसरे से बात करने के लिए मैसेज पासिंग कांसेप्ट का उपयोग करता है|

Leave a Comment