सच्ची खबर

पूर्व ब्रिटिश PM ऋषि सुनक के खिलाफ खड़े हुए:बोरिस जॉनसन ने कहा- किसी का भी समर्थन करें, लेकिन ऋषि को सपोर्ट न करें

ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन ने 7 जुलाई को कंजर्वेटिव पार्टी के संसदीय दल के नेता पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद से नया प्रधानमंत्री चुने जाने की कवायद शुरू हो गई। रेस में 6 नाम थे, जिनमें से भारतवंशी ऋषि सुनक का नाम सबसे आगे है। वहीं, ईरान में महिलाओं ने हिजाब पहनने का विरोध कर दिया। महिलाओं ने देशभर में एंटी हिजाब कैम्पेन चलाया। इधर, मेक्सिको में मातृभाषा बोलने पर छात्र को जिंदा जला दिया गया।

आज के इंटरनेशनल न्यूज वीकेंडर में हम आपको दुनिया की वो पांच बड़ी खबरें बताते हैं जो पूरे हफ्ते सुर्खियों में छाई रही।

1. ब्रिटिश PM बनने की रेस में ऋषि सुनक टॉप पर, वोटर्स का दिल जीतने में जुटे

PM की रेस में ऋषि सुनक की जगह पक्की
इसी बीच नए प्रधानमंत्री की दौड़ में अपनी कंजरवेटिव पार्टी के सांसदों के समर्थन के बाद भारतवंशी ऋषि सुनक की टॉप-2 में जगह लगभग पक्की हो गई है। शुक्रवार को सुनक समेत टॉम टुजेंट, पेनी मॉरडन्ट, केमी बडेनोच और लिज ट्रस के बीच टेलीविजन डिबेट हुई। इसमें भी सुनक का पलड़ा भारी रहा। जानकारों का मानना है कि सुनक के लिए अगली बड़ी चुनौती कंजरवेटिव पार्टी के लगभग 2 लाख वोटरों का दिल जीतना है।

रेडी फॉर ऋषि का चल रहा कैंपेन
कंजरवेटिव पार्टी के वोटरों में लगभग 44% सदस्यों की उम्र 66 साल से अधिक है। साथ ही इसमें 97% वोटर श्वेत हैं। सुनक को अब तक पेनी मॉरडन्ट की ओर से चुनौती मिल रही है। पेनी श्वेत हैं। भारतवंशी सुनक को प्रधानमंत्री पद हासिल करने के लिए श्वेत वोटरों को अपने पक्ष में करना होगा। इसके लिए सुनक अपने कैंम्पेन रेडी फॉर ऋषि के तहत श्वेतों के मुद्दों को उठा रहे हैं ताकि उनका दिल जीता जा सके।

विरोधी पेनी को कंजरवेटिव पार्टी के वोटरों का बड़ा सपोर्ट
सुनक की फिलहाल सबसे बड़ी चुनौती उनकी निकटतम विरोधी पेनी मॉरडन्ट से है। कंजरवेटिव पार्टी के सर्वे में 67% मतों के साथ पेनी मॉरडन्ट सबसे आगे हैं, जबकि ऋषि सुनक को पेनी के मुकाबले अभी मात्र 28% ही समर्थन मिल रहा है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Comment